गुरुवार, 9 मई 2024

 Institute of Liver and Biliary Sciences एक बड़ा नाम है और इसके साथ नाम है डॉ एस.के. सरीन का। कहने की आवश्यकता नहीं कि डॉ सरीन  विश्व-विख्यात डॉक्टर हैं। इसलिये  उनसे मिलना भी आसान नहीं। मरीज़ हर प्रकार की असुविधा झेलकर भी ILBS पहुँचते हैं, उनसे इलाज की तलाश में।

मैं भी पिछले दिनों अस्पताल में भर्ती थी। फिर सोचा डॉ सरीन को भी दिखा लिया जाए।

डॉक्टर साहब से मिलना हुआ। पहले जूनियर डॉक्टर और फिर डॉ सरीन से। दोनों ही डॉक्टर्स ने पुरानी फाइल देखीं। जो दवाइयाँ ले रही थी, वो भी देखीं। उन्हें दवाइयाँ ठीक लगीं। हां एक दवाई pedamet 120MG पर उन्होंने कहा- ये स्टेरॉयड है हम इसे 80 MG कर रहे हैं। फिर 60, 40, 20 पर लाकर इसे हटा देंगे। ठीक हो जाओगी। कोई परहेज़ नहीं है। रोज़   बैडमिंटन  खेलो और जीतो। ओके? ओके, थैंक यू डॉक्टर साहब कहकर मैं आश्वस्त भाव से बाहर आ गई। सोचा दवाइयाँ भी यहीं से ले लेती हूँ। पर 80 MG का स्टेरॉयड नहीं मिला। अब कॉलेज के पास से दवाई लेने की सोची। दवाइयाँ मिल गईं। तभी बिलिंग सेक्शन पर केमिस्ट ने कहा-  मैडम पेशेन्ट कौन है? Pedamet 80  MG तो आती ही नहीं है। ये बहुत हाई है आपको किसने लिखी है?

8 और 4 MG की दे रहा हूँ। आपको इतनी गोलियां खानी हैं कि टोटल 80 MG हो जाए। अब मेरा माथा ठनका कि 80 MG की नहीं  आती फिर मैं 120 MG की कैसे खा रही हूँ! फौरन घर  फोन किया। सब चिल्लाए, घर आओ। डॉ सरीन से बड़ी डॉक्टर बनने की ज़रूरत नहीं, कैमिस्ट की बात पर यकीन कर रही हो! 

पर मन नहीं माना और मैं उस डॉक्टर के पास पहुँची जिसने 120 MG की स्टेरॉईड लिखी थी। डॉक्टर नहीं था इसलिये अस्पताल की फार्मेसी पर गई जहाँ से अन्य दवाओं के साथ 120 MG की स्टेरॉयड ली थी। वहाँ पता चला कि कि ये दवा 8 MG से ऊपर नहीं आती।  ये गलत लिख गया है। 12 MG लिखना था। 8 और 4 की दो गोली जो दी जा रही थीं, वो यही 12 MG की दवा है। 

आश्चर्य इस बात का है कि पहले डॉक्टर ने जो गलती की उसे डॉ  सरीन नहीं पकड़ पाए! डॉ सरीन  को क्या उस दवा की समझ नहीं थी? और अगर 80 MG का वो स्टेरॉयड मैं खा लेती? शायद अब तक होती ही ना और अगर होती भी तो न जाने किस स्थिति में। 

ये निश्चित तौर पर मेडिकल ब्लंडर है। पर डॉ सरीन जैसे सीनियर डॉक्टर से ये ब्लंडर हो सकता है, सोच के परे है। वो मुझे 80 MG का pedamet कैसे लिख सकते हैं!

कोई टिप्पणी नहीं: